Tuesday, September 1, 2009

झगड़े लफड़े !!

गांव में कमला और धापली बहुत झगडालू औरतें हैं | एक बार दोनों आपस में ही भीड़ गयी | अब दो झगडालू औरतें आपस में झगडें तो झगडा सच मुच दर्शनीय होगा | लच्छेदार गलियों का प्रयोग झगड़े में चार चाँद लगा रहे थे |
कमला : तू तो बड़ी कमीनी है, अच्छी तरह जानती हूँ तू क्या क्या गुल खिलाती है खेत में |
धापली : तेरे जैसी कमीनी भी नहीं हूँ, पड़ोस में छाछ लेने के बहाने जा कर क्या क्या नैन मटक्का करती है मुझे सब पता है |
कमला: तेरे तो पुरे खान दान की की कहानी मुझे पता है|
धापली:और तेरे खानदान की कहानी ?जैसे मुझे पता नहीं है !
कमला : अरे तेरी दादी तो तेरे दादे को छोड़ के भाग गयी थी |
धापली: रहने दे मेरा मुह मत खुलवा ! तेरी बुआ जो धोबी के साथ भाग गयी थी ? खानदानी इश्कबाज रहे हो तुम लोग |
कमला : अरी कलमुही तेरे को तो मैं किसी गधे के साथ भेजूंगी |
(इतने में चुन्नी भैया उधर से गुजर रहे थे, धापली ने चुन्नी भैया को देखकर कहा ): अरी नाशपिटी तेरे को मैं इस चुन्नी लाल के साथ भेजूंगी ! (अब चुन्नी भैया को ये बात सुनाई दे गई और चुन्नी लालजी वहीँ खड़े हो गए| झगडा लगातार चलता रहा |आधी घंटा खड़े रहने के बाद चुन्नी भैया उनके नजदीक आये और धापली से बोले): अरे धापली मैं रुकूँ की जाऊं |
(फिर क्या था कमला टूट पड़ी चुन्नी पे)

22 comments:

  1. दोनो की लड़ाई मे चुन्नु भैया का फ़ायदा होने वाला था..
    मजेदार कहानी....बधाई

    ReplyDelete
  2. ha,,,ha,,ha,,ha,
    mai rukun ki jaaun
    ha,,ha,ha,
    maja aa gaya padhkar

    bahut khoob rahi

    ReplyDelete
  3. चुन्नु भईया बेचारे....

    ReplyDelete
  4. चुन्नीलाल का भविष्य उज्ज्वल है। वे रुक ही जायें! :-)

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. ये तो बडी नाईंसाफी हुई बेचारे चुन्नी भैया के साथ:)

    खानदानी इश्कबाज:) हा हा हा......

    ReplyDelete
  7. BECHAARE CHUNNI LAAL ....... KHAMKHA HI PIT GAYE... KAMAAL KA HAASY HAI AAPKI POST MAIN ....

    ReplyDelete
  8. मैं रुकूँ की जाऊं ?
    दिलचस्प.

    ReplyDelete
  9. तुम्हारी इस पोस्ट ने मुझे मेरे गांव की याद दिला दी, जहां पर ऐसी झड़पें तो आम ही सुनने को मिलती हैं।

    ReplyDelete
  10. पारीक भई मजा गया आपकी ये पोस्ट पढकर !!

    ReplyDelete
  11. एक सच्चाई, जिसे फैंटेसी के रूप में स्वीकार कर सकते हैं।
    वैज्ञानिक दृ‍ष्टिकोण अपनाएं, राष्ट्र को उन्नति पथ पर ले जाएं।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढिया लिखा है !!

    ReplyDelete
  13. हा हा हा! Nice one!

    ReplyDelete
  14. मज़ेदार, बढ़िया लिखा.
    बधाई ही बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. मुझे तो चुन्नीलाल आप ही लग रहे हैं,फिर उसके बाद क्या हुआ....हा...हा..हा..

    ReplyDelete
  16. waah ji chunni ke to ware nyarekar diye aapne .....!!

    ketiaa aahile ...??

    ReplyDelete
  17. वाह वाह क्या बात है! बहुत ही दिलचस्प और मज़ेदार कहानी लिखा है आपने ! बढ़िया लगा!

    ReplyDelete
  18. ha ha ha ha.... he he he.... hu hu hu...
    bahut badiya...

    ReplyDelete

आपके लिए ही लिखा है आप ने टिपण्णी की धन्यवाद !!!