Monday, February 8, 2010

हम तो जाते अपने गाँव !!!

परदेश की आबो हवा अब रास ना आवे |
घर आजा परदेशी तेरा देश बुलावे ||

वो सुनहले धोरे कितना मुझको मिस करते है|
कब आवोगे साथी मनमे कितना रिस करते हैं ||

जाने कब आये ये फरवरी ११ का दिन |
एक एक साल लगे है हर पल हर छीन||

कुछ दिन कुछ ना कहूंगा |
दिल के करीब ब्लॉग से दूर रहूंगा !!!

12 comments:

  1. शुभ यात्रा मुरारी भाई !

    ReplyDelete
  2. यह मिस करते है वाला प्रयोग अच्छा लगा ..कब तक वापसी है ?

    ReplyDelete
  3. अच्छा है भाई मौज करें.

    ReplyDelete
  4. तो वाया लखनऊ मिल रहे हैं ना?

    ReplyDelete
  5. आपका यात्रा शुभ हो और आप हर दिन ख़ुशी से बितायें! जल्द आइयेगा और आपके नए पोस्ट का इंतज़ार रहेगा!

    ReplyDelete
  6. शुभ यात्रा के लिये मंगल कामनायें

    ReplyDelete
  7. आपकी यात्रा मंगलमय हो !!

    ReplyDelete
  8. आकर गांव के बारे में बताइयेगा।

    ReplyDelete
  9. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  10. आपकी यात्रा शुभ हो .... घर में सब कुशल मंगल हो ......

    ReplyDelete
  11. वापसी का इंतज़ार कर रहा हूँ.

    शुभ शुभ.

    ReplyDelete

आपके लिए ही लिखा है आप ने टिपण्णी की धन्यवाद !!!